Breaking News

Tripura Violence: त्रिपुरा में चल रहा सांप्रदायिक तनाव पूर्णतः सरकार द्वारा प्रायोजित है – चन्द्रशेखर आज़ाद

Tripura violence दिल्ली (गुलिस्तां डेस्क)। भारत के उत्तर पूर्व राज्य त्रिपुरा में चल रहे हिंसा के कारण माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। कट्टरपंथी संगठनो द्वारा मुस्लिम समाज के धर्मस्थलों और दुकानों व मकानों को आग के हवाले कर दिया गया है।
अगरतला शहर के जामा मस्जिद के मुख्य इमाम रहमान बताते हैं कि त्रिपुरा में मुसलमानों की कुल आबादी 40 लाख है। उन्होंने कहा, “इतिहास की बात करें तो त्रिपुरा में जब राजशाही थी तब भी और 1949 में भारत में विलय के बाद भी धार्मिक हिंसा कभी नहीं हुई है। पहली बार 2019 बैदादीगीह में एक संगठित भीड़ ने मस्जिदों और मुसलमानों पर हमला किया और अब ये पूरे राज्य में हो रहा है।
Tripura violence त्रिपुरा के शाही परिवार के प्रमुख प्रियदत्त किशोर देब बर्मा कहते है कि राज्य में हिंदू-मुस्लिम विभाजन एक हालिया घटना है जो कि ‘धार्मिक ध्रुवीकरण के ज़रिए राजनीतिक फ़ायदे’ के लिए किया जा रहा है।
वे कहते हैं, “त्रिपुरा में कभी हिंदू मुस्लिम के बीच झगड़े नहीं थे, दोनों सालों से शांति से रह रहे हैं और उनके साथ यहां के लोग भी रहते हैं. अब हम देख रहे हैं कि त्रिपुरा में कुछ गुट आ रहे हैं और मस्जिदों को जलाने और मुस्लिमों के ख़िलाफ़ नारे लगाने का काम कर रहे हैं।

Tripura violence इस हिंसा और आगजनी के खिलाफ जहाँ केंद्र सरकार भाजपा एवं कांग्रेस चुप्पी साधे हुये हैं वही भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर आज़ाद ने केंद्र सरकार और त्रिपुरा सरकार पर सीधा हमला बोलते हुए कहा है कि देश में मुस्लिम समुदाय डर के साए में जी रहा है। बेहद अफसोस की बात है कि देश के प्रधानमंत्री एवं गृहमंत्री अभी तक इस पर मौन हैं। देश को नफरत की आग में मत झोंकिए। सरकार हिंसा करने वालों पर सख्त कार्यवाही करे। उन्होंने कहा की अब यह हिन्दू और मुसलमान की राजनीति ज्यादा दिन तक चलने वाली नही है, आने वाले वक्त में जनता इसका जवाब देगी। Post by KD Siddiqui, Email : editorgulistan@gmail.com