Breaking News

Bhim Army News : यूपी की सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी आज़ाद समाज पार्टी – चन्द्रशेखर आज़ाद

Bhim Army News दिल्ली। (गुलिस्ता संवाददाता) उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी सभी दलों ने जोर शोर से शुरू कर दिया है। बड़ी बड़ी पार्टियां उन छोटे छोटे दलों की लेकर चुनाव लड़ने की योजना बना रही है जिन्होंने अपनी अपनी राजनैतिक ज़मीन तैय्यार कर रखा है। कम समय में ही भारत की राजनीति के धुरंधरों की नींद उड़ाने वाले भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद यूपी की सियासत का केंद्र बने हुए हैं। लम्बे समय से कयास लगाया जा रहा था कि चन्द्रशेखर आज़ाद की आज़ाद समाज पार्टी कांशीराम यूपी के 2022 विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव के साथ मिल कर चुनाव लड़ेगी लेकिन अभी तक किसी भी दल की तरफ से आधिकारिक घोषणा नही हुई है।

Bhim Army News 28 अक्टूबर 2022 को एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में आज़ाद समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रशेखर आज़ाद ने कहा कि हम जाति -पात, हिन्दू, मुसलमान और मन्दिर, मस्जिद की सियासत करने के लिये राजनीति में नहीं आये हैं, बल्कि मैं तो देश में सैकड़ों साल से शोषित, वंचित को उनका हक और उन करोड़ो बेटियों को न्याय दिलवाने आया हूँ जिनकी अस्मिता के साथ रोज़ खिलवाड़ किया जा रहा है। मैं उन करोडों युवाओं को उनका हक, बराबरी और सम्मान दिलवाने के लिये आया हूँ, उन्होने कहा कि इस जातिवादी, नफरती और अहंकारी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिये मुझे किसी दल के साथ चुनाव लड़ने से परहेज नही है, लेकिन मैं समझौता सम्मानजनक सीटों पर ही करूंगा और आवश्यकता पड़ी तो प्रदेश की सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के लिये हमारे भीम आर्मी के सिपाही तैयार हैं।

Bhim Army News सब से कम समय मे सम्पूर्ण भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई मुल्कों में अपनी पहचान बना चुके भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर आज़ाद को गरीबो, दलितों, पीड़ितों, शोषितों और मुसलमानों की आवाज़ के रूप में जाना जाता है। देश भर में बड़ी संख्या में एससी, एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यक समाज चन्द्रशेखर आज़ाद को अपना नेता मान चुका है।
Bhim army news चन्द्रशेखर आज़ाद के बढ़ते राजनैतिक कद से जहां राजनीति के धुरंधरों की नींद उड़ी हुई है वही बसपा सुप्रीमो मायावती को अपनी ज़मीन खिसकती नज़र आ रही है। हालांकि अपने सम्बोधन में बार बार बहन जी को चन्द्रशेखर आज़ाद प्रधानमंत्री बनाने में समर्थन की बात करते हैं लेकिन मायावती ने कभी भी अपने सम्बोधन में चन्द्रशेखर आज़ाद का नाम नहीं लिया। एससी और एसटी समाज के लगातार बढ़ रहे शोषण और उनपर हो रहे अत्याचार के ख़िलाफ़ मायावती की चुप्पी ने ही भीम आर्मी संघटन बनाने और चन्द्रशेखर आज़ाद को राजनीति में सक्रिय रूप से उतरने पर मजबूर किया है, ऐसा कहना है भीम आर्मी प्रमुख का।

Bhim army news आज जहां भी बेटियों के साथ बलात्कार और दलित उत्पीड़न की घटनाएं हो रही हैं सबसे पहले लोग भीम आर्मी को न्याय के लिये आवाज़ दे रहे हैं। भीम आर्मी आज सम्पूर्ण भारत में पीड़ितों और शोषितों को न्याय दिलवाने के लिये संघर्ष कर रही है। भीम आर्मी की तरफ बढ़ते युवाओं के रुझान और गली गली में न्याय, अधिकार और सम्मान देने वाले संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव के जय घोष “जय भीम” ने लोंगों को यह सोचने पर विवश किया है अब यह देश गुंडागर्दी और तानाशाही से नहीं बल्कि संविधान से चलेगा। post by: KD Siddiqui Email: editorgulistan@gmail.com