Skip to Content

Bhim Army in U.P. यूपी के विधानसभा चुनाव में पूरी ताक़त से लड़ेगी आज़ाद समाज पार्टी – चंद्रशेखर आज़ाद

Bhim Army in U.P. यूपी के विधानसभा चुनाव में पूरी ताक़त से लड़ेगी आज़ाद समाज पार्टी – चंद्रशेखर आज़ाद

Closed
by December 21, 2020 National

Bhim Army in U.P. दिल्ली। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में होना है लेकिन राजनैतिक दलों ने प्रचार प्रसार में अभी से पूरी ताक़त लगा दिया है। सामाजिक और राजनैतिक बदलाव के लिए लम्बे समय से कार्य कर रहे भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद ने भी आज़ाद समाज पार्टी के नाम से राजनैतिक दल का रजिस्ट्रेशन करवा लिया है और अब उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। चंद्रशेखर आज़ाद ने मीडिया को बताया कि आज़ाद समाज पार्टी यूपी विधानसभा चुनाव 2022 पूरी ताक़त के साथ लड़ेगी। पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी या किसी के साथ गठबंधन होगा इस बात का खुलासा पार्टी ने अभी नहीं किया है।

Bhim Army in U.P. यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चंद्रशेखर आज़ाद ने यूपी में भीम आर्मी संगठन के सदस्यों के साथ बैठक शुरू कर दिया है। वैसे तो आज़ाद समाज पार्टी का रजिस्ट्रेशन नवंबर 2020 में हुआ है लेकिन भीम आर्मी पांच साल से बहुजन समाज को संगठित करने और अन्याय, अत्याचार एवं लोगों के सम्मान के लिए कार्य कर रही है। यही कारण है कि आज देश भर में करोड़ों लोग भीम आर्मी, भारत एकता मिशन के साथ कार्य कर रहे हैं।

Bhim Army in U.P. भीम आर्मी के बढ़ते जनाधार से देश की राष्टीय दल कांग्रेस और भाजपा चिन्तित हैं। उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में एससीएसटी, पिछड़ा, अतिपिछड़ा और अल्पसंख्यक समाज चंद्रशेखर आज़ाद के साथ जुड़ रहा है। बाबा भीमराव अम्बेडकर साहब और कांशीराम के पदचिन्हों पर चलने वाले चंद्रशेखर आज़ाद के पार्टी गठन के बाद से बसपा के कई वरिष्ठ नेताओं ने आज़ाद समाज पार्टी का दामन थाम लिया है। यूपी में चंद्रशेखर आज़ाद के आगमन से जहाँ मायावती को बसपा के समाप्त होने का भय सता रहा है, वहीं अखिलेश यादव के हाथ से मुस्लिम वोट खिसकता हुआ दिखाई दे रहा है।

Bhim Army in U.P. नागरिकता संसोधन कानून के विरोध में जिस तरह से चंद्रशेखर आज़ाद ने मुसलमानों का साथ दिया और दिल्ली की जामा मस्जिद से केंद्र सरकार को ललकारा उस से देश का मुस्लिम समाज काफी प्रभावित हुआ है। यही कारण है कि आज देश का मुस्लिम नौजवान असदुद्दीन ओवैसी के साथ नहीं चंद्रशेखर आज़ाद के साथ चलना पसंद कर रहा है। चंद्रशेखर आज़ाद के राजनीति में दाखिल होने से जहाँ राजनीती के धुरंधरों को पसीना आ रहा है, वहीं देश के बहुजन समाज को एक युवा और क्रन्तिकारी नेता मिल गया है जिससे उनेह राजनैतिक और सामाजिक बदलाव की ढेर सारी उम्मीदें हैं। Post By- KD Siddiqui, Email- editorgulistan@gmail.com

Previous
Next