Skip to Content

Hathras Rape Case : बलात्कार मामले पर पर्दा डालने के लिए योगी सरकार का देशद्रोही प्रोपेगैंडा

Hathras Rape Case : बलात्कार मामले पर पर्दा डालने के लिए योगी सरकार का देशद्रोही प्रोपेगैंडा

Closed
by October 6, 2020 National

Hathras Rape Case : नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था की देश भर निंदा हो रही है। आये दिन हत्या और बलात्कार की घटनाओं से प्रदेशवासियों में सरकार के खिलाफ भारी आक्रोश है। हाथरस बलात्कार मामले में अब यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल करके नया खुलासा किया है। चौतरफा घिरी भाजपा सरकार ने कहा है की हाथरस बलात्कार मामले की आड़ में देश विरोधी साजिश चल रही थी। कुछ संगठन हाथरस में साम्प्रदायिक दंगा करवाना चाहते थे। सुप्रीम कोर्ट ने जजों की निगरानी में पुरे मामले की जाँच सीबीआई से करवाने का आदेश दिया है।

Hathras Rape Case : गौरतलब है कि यूपी के हाथरस में दलित युवती के साथ बलात्कार और हत्या के मामले में फांसी यूपी सरकार दिन पर दिन फंसती ही जा रही थी। अभी बलात्कारियों की गिरफ्तारी और उनको फांसी देने की मांग चल ही रही थी कि इलाज के दौरान पीड़िता की मौत हो गयी, और मौत के बाद उसके शव को बिना परिजनों की अनुमति के आग के हवाले कर दिया गया। जबकि पीड़िता के परिवार वाले अपनी बेटी के शव को घर ले जाने एवं रीतिरिवाज़ से अंतिम संस्कार करने की मांग कर रहे थे।

Hathras Rape Case :बलात्कार के बाद मामला दर्ज करने में लापरवाही, इलाज में लापरवाही, आरोपियों को गिरफ्तार करने के मामले में लापरवाही, डीएम और एसडीएम द्वारा धमकी देने और पीड़िता की मौत के बाद शव के साथ अपमान से परिवार और राजनैतिक दलों ने भारी विरोध किया। मीडिया और राजनैतिक दलों के भारी विरोध के कारण यूपी सरकार बैकफुट पर चली गयी और पुरे मामले को दंगे की तरफ मोड़ दिया जिससे कि देश का ध्यान बलात्कार के मुद्दे से हटाया जा सके। आज कोर्ट में हलफनामा दाखिल करके यूपी सरकार ने बताया कि हाथरस बलात्कार मामले के पीछे देशद्रोही संगठनों का हाथ है। हाथरस का साम्प्रदायिक माहौल बिगड़ने वाला था इस लिए बलात्कार पीड़िता के शव को रात्रि के समय ही आग के हवाले कर दिया गया। जिससे कि क्षेत्र का सद्भाव खराब न हो।

Hathras Rape Case : जहाँ यूपी सरकार द्वारा पुरे मामले पर पर्दा डालने की इस कोशिस की सर्वत्र निंदा हो रही है वहीं यूपी सरकार ने कुछ मुस्लिम युवकों को गिरफ्तार करके साजिश को नाकाम करने का दावा किया है। अब भाजपा बिहार के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पुरे मामले को हिन्दू बनाम मुस्लिम करने का घिनौना खेल खेल रही है। जबकि बलात्कार पीड़िता के घर के सामने ही गांव के ठाकुर समाज के लोगों ने धारा 144 और महामारी एक्ट के नियमों का उललंघन करते हुए हजारों लोगों ने इकट्ठा हो कर दो बार पंचायत किया और खुले आम भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद को धमकी दिया, बलात्कार पीड़िता के परिवार को धमकी दिया लेकिन यह सब सरकार और जाँच एजेंसियों को दिखाई नहीं दिया, प्रशासन द्वारा इनके खिलाफ कार्रवाई करने के बजाये इनको पुलिस सुरक्षा दिया जा रहा है। Post By- KD Siddiqui, Email-editorgulistan@gmail.com

Previous
Next