Skip to Content

Massive Corruption In EDMC : ईडीएमसी में व्याप्त भ्र्ष्टाचार के कारण चल रहे अवैध निर्माण से हो सकता है बड़ा हादसा

Massive Corruption In EDMC : ईडीएमसी में व्याप्त भ्र्ष्टाचार के कारण चल रहे अवैध निर्माण से हो सकता है बड़ा हादसा

Closed
by September 11, 2020 Delhi News

Massive Corruption In EDMC : पूर्वी दिल्ली। दिल्ली में चल रहे बेतहाशा अवैध निर्माण के कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है लेकिन इस अवैध कारोबार में नीचे से लेकर ऊपर तक के लोगों के शामिल होने के कारण कोई कार्रवाई करने को तैयार नहीं है। दिल्ली में अवैध निर्माण के चलते सैकड़ों लोग पहले भी अपनी जान गवां चुके हैं। बावजूद इसके ईडीएमसी के अधिकारी बेख़ौफ़ घूस लेकर रात – दिन अवैध निर्माण करवा रहे है। निगम के अधिकारीयों ने इसके लिए हर वार्ड में एक दलाल नियुक्त किया हुआ है जो ठेकेदारों से घूस की रकम इकट्ठा करके अधिकारीयों तक पहुंचाता है। ईडीएमसी के लोग क्षेत्र में सिर्फ यह पता लगाने के लिए आते हैं कि कहाँ – कहाँ पर अतिक्रमण शुरू हुआ है। अतिक्रमण करने वालों से अतिक्रमण किये गए क्षेत्र के अनुसार घूस लिया जाता है। सोसायटियों में अतिक्रमण की स्थिति ऐसी हो गयी है कि किसी एमरजेंसी में गलियों में एम्बुलेंस और अग्निशमन विभाग की गाड़ियां नहीं पहुँच सकती हैं।

Massive Corruption In EDMC : रिश्वत दे कर खुलेआम नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है, अधिकारी और संबंधित विभाग सबके सब कान में तेल डाल कर सो रहे हैं। देश भले ही आर्थिक तंगी और महामारी से जूझ रहा है लेकिन अवैध कमाई करने वाले अधिकारीयों के पास लाखों रूपये रोज़ की अवैध आमदनी हो रही हैं। अधिकारीयों का कहना है कि बिना शिकायत के हम लोग कोई कार्रवाई नहीं कर सकते हैं।

Massive Corruption In EDMC : हमारे संवाददाता ने जब कड़कड़डूमा स्थित पूर्वी दिल्ली नगर निगम के कार्यालय में अधिशाषी अभियंता राजेश शर्मा से जब इस विषय बात किया तो उनका सीधा जवाब मिला कि शिकायत दीजिये हम कार्रवाई करेंगें लेकिन बिना शिकायत के कोई कार्रवाई नहीं होती है, साथ में बैठे सहायक अभियंता राजू सागर ने कहा कि हमारे पास क्षेत्र बहुत बड़ा है, कहाँ – कहाँ देंखें, फिर जूनियर इंजीनियर मीणा से बात हुई तो उनका जवाब मिला कि हमें सब पता है, आप अपना कार्य करों, हम अपना कार्य करना जानते हैं।

Massive Corruption In EDMC : 10 जुलाई 2020 को ट्वीटर के माध्यम से उपराजयपाल कार्यालय को शिकायत किया गया, (2020005477) उपराज्यपाल के कार्यालय में शिकायत दर्ज हो गयी। दो महीने बाद 10 सितंबर 2020 को ईडीएमसी ने जवाब दिया कि शिकायत में सम्पत्ति का नंबर नहीं लिखा है। अवैध कमाई से यह अधिकारी और कर्मचारी इतने ताक़तवर हो गए हैं कि अब एलजी कार्यालय को भी कुछ नहीं समझते है। ईडीएमसी के अधिकारीयों ने शिकायत कर्ता से सम्पर्क नहीं किया, क्षेत्र में कोई आया नहीं, सिर्फ मामले को रफा दफा करने के लिए गोलमोल जवाब दे दिया गया। पूर्वी दिल्ली नगर निगम की यह लापरवाही किसी न किसी दिन किसी के लिए जानलेवा साबित होगी, फिर उस समय जवाब देने वाला कोई नहीं होगा।

Massive Corruption In EDMC : भ्र्ष्टाचार के इस चक्रव्यूह के रचयिता बड़े बड़े भ्र्ष्टाचारी ज्ञानी है, इस में बिजली विभाग, पुलिस, जनप्रतिनिधि और दिल्ली प्राधिकरण के धुरंधर शामिल हैं। भ्र्ष्टाचार की अवैध कमाई की ताक़त पर भ्र्ष्ट कर्मचारी और अधिकारी हमेशा अपना तबादला ऐसी जगहों पर करवाते हैं, जहाँ अवैध निर्माण और अवैध कारोबार की संभावना ज्यादा हो। चूँकि सिस्टम ही भ्र्ष्ट है तो शिकायत अब किस से किया जाए ? इतिहास गवाह है, अन्याय, अत्याचार, अवैध कारोबार और भ्र्ष्टाचार के खिलाफ आवाज़ उठाने वालों की हत्याएं करवाई गयी है और बाद में जाँच के नाम पर सिर्फ खाना पूर्ति।

इसका ज़िम्मेदार कौन ? इसपर विचार करने की आवश्यकता है। राष्ट्र की सेवा के नाम पर राष्ट्र को खोखला करने वालों का अगर सामाजिक बहिष्कार शुरू हो जाये तो सामाजिक परिवर्तन हो सकता है अन्यथा विभागीय कार्रवाई की उम्मीद बेईमानी लगता ह. Report by. KD SIDDIQUI, Email-editorgulistan@gmail.com

Previous
Next