Skip to Content

Fight Against Youth Unemployment : बेरोज़गारी जैसे ज्वलंत मुद्दे के ख़िलाफ़ आंदोलन खड़ा कर रहे हैं पूर्व आईएएस सूर्यप्रताप सिंह

Fight Against Youth Unemployment : बेरोज़गारी जैसे ज्वलंत मुद्दे के ख़िलाफ़ आंदोलन खड़ा कर रहे हैं पूर्व आईएएस सूर्यप्रताप सिंह

Closed
by September 11, 2020 National

Fight Against Youth Unemployment दिल्ली। उत्तर प्रदेश के 1982 बैच के रिटायर्ड आईएएस अधिकारी सूर्यप्रताप सिंह आज कल केंद्र सरकार की भटकाऊ नीतियों पर लगातार पानी फेर रहे हैं। कोरोना महामारी के दौरान से सोशल मीडिया पर खासतौर से चर्चा में आये सूर्यप्रताप सिंह ने सोशल मीडिया के माध्यम से देश की युवा शक्ति को संगठित करके बिकाऊ मीडिया को उनकी औकात बता दिया है। उनके सवालों से बौखलाई यूपी सरकार ने कोरोना महामारी के दौरान उनके ऊपर कई मामले दर्ज करवा कर उनकी आवाज़ को दबाने की भरपूर कोशिश किया लेकिन सूर्यप्रताप सिंह की आवाज़ को जितना ही दबाने की कोशिश किया गया उनकी आवाज़ उतनी ही मुखर होती चली गयी। कोरोना के शुरुआती दौर में #सूर्यप्रताप सिंह यूपी सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाया था। जब से योगी सरकार और सूर्यप्रताप सिंह आमने सामने हैं। सूर्यप्रताप सिंह ने हमेशा से गलत नीतियों, भ्र्ष्टाचार और अन्याय का विरोध किया जिसके कारण सर्विस के दौरान अक्सर उनका तबादला कर दिया जाता था।

Fight Against Youth Unemployment अब ऐसे वक़्त में जब देश की अर्थ व्यवस्था डूब रही है, लोगों का कारोबार बंद हो रहा है, नौकरियां छूट रही हैं, देश गरीबी, भुखमरी, बीमारी, अन्याय और अत्याचार से जूझ रहा है। देश की मीडिया सरकार को आईना दिखाने के बजाये सरकार की गोद में बैठ गयी है, देश की सबसे न्यायिक संस्था सुप्रीम कोर्ट से लोगों का विश्वास कमजोर हो रहा है। केंद्र सरकार उद्योगपतियों की गुलामी कर रही है। निजीकरण को बढ़ावा दिया जा रहा है, सरकारी संस्थानों को अधमरा किया जा रहा है, देश के करोड़ों शिक्षित और अशिक्षित बेरोजगार युवक सड़कों पर हैं, सूर्यप्रताप सिंह ने बेरोजगारी जैसे ज्वलंत मुद्दे के खिलाफ देश के युवाओं को संगठित करके सोशल मीडिया के माध्यम से आंदोलन शुरू कर के केंद्र सरकार को घेर लिया है। बेरोज़गारी के मुद्दे पर ज्यादातर राजनैतिक दल भी सूर्यप्रताप सिंह के समर्थन में दिखाई दे रहे हैं।

Fight Against Youth Unemployment 9 सितंबर 2020 को #9 सितंबर को 9 बजे, 9 मिनट के ट्वीटर पर मिली कामयाबी के बाद सिंह के हौसले बुलंद हैं। #सूर्यप्रताप सिंह को सोशल मीडिया पर लोगों का अपार समर्थन मिल रहा है। अब प्रधान मंत्री मोदी के जन्मदिन पर 17 सितंबर 2020 को बेरोज़गार दिवस के रूप में मनाये जाने की घोषणा के बाद से करोङो लोग सिंह के समर्थन में उतर आये हैं। सूर्यप्रताप सिंह इस अभियान में समाजवादी पार्टी के आलावा कांग्रेस और अन्य सैकड़ों छोटे दलों और लाखों एनजीओ का समर्थन सिंह को मिल रहा है।

Fight Against Youth Unemployment भाजपा जहाँ देश की बिगड़ती अर्थ व्यवस्था, बेरोजगारी, भुखमरी, स्वास्थ्य और शिक्षा के मुद्दों से देश को भटकाने के लिए मीडिया का उपयोग कर रही है वही सोशल मीडिया पर पल पल का अपडेट कर रहे युवाओं ने केंद्र सरकार को इन मुद्दों पर सोचने के लिए विवश कर दिया है। अनुमान लगाया जा रहा है कि सूर्यप्रताप सिंह के इस अभियान का खामियाजा भाजपा को बिहार विधानसभा चुनाव में भुगतना पड़ सकता है। सूर्यप्रताप सिंह वह आवाज़ हैं जिसको न डराया जा सकता है, न खरीदा जा सकता है और न दबाया जा सकता है। इस लिए 17 सितंबर के इस अभियान ने भाजपा की सारी उम्मींदों पर पानी फेर दिया है। केंद्र सरकार को उसी की भाषा में जवाब दे रहे सूर्यप्रताप सिंह ने केंद्र सरकार और राजनीती के कथित चाणक्य अमित शाह की बोलती बंद कर दिया है। अब १७ सितंबर का यह आंदोलन अगर सफल रहा तो यह समझा जायेगा. Post By- KD SIDDIQUI, Email-editorgulistan@gmail.com

Previous
Next