Skip to Content

Tablighi Jamat News : अदालत ने जमातियों के ख़िलाफ़ दर्ज एफआईआर को रद्द करने का दिया आदेश

Tablighi Jamat News : अदालत ने जमातियों के ख़िलाफ़ दर्ज एफआईआर को रद्द करने का दिया आदेश

Closed
by August 22, 2020 National

Tablighi Jamat News दिल्ली। कोरोना महामारी के शुरुआती दौर में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में विदेशों से आये लोंगो को लेकर मीडिया ने देश में जबरदस्त प्रोपेगैंडा चलाया। मीडिया ने पूरे देश में यह साबित करने का प्रयास किया कि कोरोना को फैलाने के लिए जमात के लोग ही जिम्मेदार हैं। मीडिया प्रोपगेंडा के कारण देश का सद्भाव बिगडने लगा, जगह जगह लोग मुसलमानो के साथ भेदभाव एव मारपीट करने लग गये। सरकार की चुप्पी नें मीडिया का हौसला बढ़ाया और मीडिया बेलगाम नफरत फैलाने के कार्य में लग गया।

Tablighi Jamat News भाजपा और संघ के लोंगो को अवसर मिला और उन्होंने जमात के सदस्यों के ख़िलाफ़ थानों में एफआईआर और अदालत से उन्हें सजा देने का आग्रह किया था। आज महाराष्ट्र हाईकोर्ट की औरंगाबाद बेंच ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि जमात के लोंगो को बलि का बकरा बनाया गया और मीडिया ने प्रोपोगेंडा चलाया, जोकि आलोचना के योग्य है। कोर्ट ने विदेश से भारत आये जमातियों के ऊपर की गई एफआइआर को तत्काल प्रभाव से रदद् कर दिया।

Tablighi Jamat News न्यायाधीश टीवी नलवड़े और न्यायाधीश एमजी सेवलिकर की बेंच ने घाना, तंजानिया, इंडोनेशिया, बेनिन और कुछ अन्य देशों से भारत में आये जमातियों की याचिका को सुना। जामियों कि तरफ से अपनी याचिका में बताया गया था कि विदेशों से आने वाले सभी जमाती वैध वीजा पर भारत आये थे। जब वह लोग भारत के हवाईअड्डे पर पहुँचे तो वहां पर उनकी स्क्रीनिंग की गई, कोरोना टेस्ट किया गया, और रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही उनको एयरपोर्ट से बाहर जाने दिया गया।

Tablighi Jamat News याचिका करने वाले ने कहा कि उन्होंने अहमदनगर पहुंचने पर जिले के डीएसपी को भी बता दिया गया था और 23 मार्च से लॉक डाउन लगने के कारण देश के सभी होटल, लॉज, और गेस्ट हाउस बन्द हो गए थे जिसके कारण उन्हें मस्जिदों में रुकना पड़ा। जमात के लोग किसी अवैध गतिविधियों में शामिल नहीं थे और न ही जिला अधिकारी के किसी भी आदेश का उल्लंघन किया।

Tablighi Jamat News जमात के वकील की बात सुनने के बाद बाद अदालत ने अपने फैसले में कहा कि “एक राजनैतिक सरकार महामारी के दौरान बलि का बकरा ढूंढती है और हालात इस बात को दिखाते हैं कि ऐसी संभावना है कि इन विदेशियों को बलि का बकरा बनाया गया है।

Tablighi Jamat News हाईकोर्ट ने कहा कि हमें इसे लेकर पछतावा होना चाहिये और उनके नुकसान की भरपाई के लिये सरकार को सकारात्मक कदम उठाना चाहिये। अदालत ने 29 विदेशी जमातियों के ख़िलाफ़ दर्ज एफआईआर को रद्द करने का आदेश दिया। यह एफआईआर महाराष्ट्र पुलिस द्वारा पर्यटन वीजा नियमों के उल्लंघन से सम्बंधित थी। Report : Dr Nadeem Azmi, Mumbai, Email: editorgulistan@gmail.com

Previous
Next