Breaking News

Corruption : साप्ताहिक बाजार में उगाही करने पहुंचे सिपाही ने पैसे नहीं देने पर ढाबे वाले के तंदूर में डाला पानी

पूर्वी दिल्ली। देश आर्थिक संकट से जूझ रहा है। छोटे से लेकर बड़े उद्योग मंदी के दौर से गुजर रहे है। जहां लोग कम्पनियों की छंटनी से बेरोजगार हो रहे हैं वहीं छोटे कारोबारियों को भृष्ट व्यवस्था के चलते अनेकों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार फेस 3 दिल्ली 96 में साप्ताहिक बाजार में पटरी पर दुकान लगा कर जीवन यापन करने वाले दुकानदारों के अनुसार अवैध उगाही करने वाले एमसीडी और पुलिस के लोंगों ने उनका जीना दूभर कर रखा है। दुकान दरों का कहना है कि जितनी हमारी कमाई नहीं होती है उससे ज्यादा उगाही देनी पड़ती है। एमसीडी, पुलिस और माफिया टैक्स देने के बावजूद कभी उनका समान फेंक दिया जाता है तो कभी सामान को एमसीडी के लोग उठा ले जाते हैं और पुलिस के लोग कभी भी आकर तांडव करते रहते हैं।

साप्ताहिक बाजार में छोले भटूरे बेचने वाले चन्द्र भान ने बताया कि 22 सितम्बर 2019 रविवार को उन्होंने कोण्डली में दुकान लगाया था। रात्रि 9 बजे के आस पास थाना न्यू अशोक नगर के क्षेत्रीय बीट कॉन्स्टेबल अपने सहयोगी के साथ आया और पैसे मांगने लग गया। पैसा देने से मना करने पर पुलिस वालों ने तंदूर में पानी डाल कर आग बुझा दिया, जिसके कारण चन्द्रभान को समय से पहले दुकानदारी बन्द करनी पड़ी।
मंगलवार 18 सितम्बर 2019 को मयूर विहार फेस 3 की बुध बाजार में फिर गाजीपुर थाने से एरिया के बीट कांस्टेबल ने चंद्रभान की दुकान पर आकर लाईसेंस और कागजात चेक करने के नाम पर परेशान करना शुरू कर दिया।
इससे पहले एमसीडी से आये हुए लोंगों ने सब्जी वालों का सामान ट्रक में भर लिया, जब सभी दुकानदारों ने हाथ जोड़ कर विनती किया तो दो दो हजार रुपया लेकर सामान छोड़ा गया।

गरीब और बेरोजगार लोग छोटा मोटा कारोबार करके अपना और परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं लेकिन व्यवस्था संभालने वालों के लिये यह अवैध कमाई का माध्यम है। पटरी पर अस्थायी दुकानदारी करने वालों की फरियाद सुनने वाला कोई नहीं है। इस लिये समाज सेवी सन्गठन अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार सुरक्षा परिषद नामक संस्था इन दुकानदारों की सहायता के लिये आगे आया है।

संस्था द्वारा अभी दुकानदारों को सदस्य बनाया जा रहा है। एनजीओ के संस्थापक केडी सिद्दीकी ने बताया कि संस्था मानव अधिकारों की रक्षा के लिये कार्य कर रही है। जब भी जरूरत पड़ेगी दुकानदारों को कानूनी सहायता संस्था द्वारा दी जाएगी। रोज़गार करने और अपने परिवार का पालन पोषण करने का सबको अधिकार है।

एमसीडी और पुलिस द्वारा जो दुकानदारों का शोषण किया जा रहा है उसके खिलाफ जल्द ही संस्था एक बड़ा प्रदर्शन करने की तैयारी है। संस्था प्रदर्शन से पहले भृष्ट कर्मचारियों और अधिकारियों की शिकायत सम्बंधित अधिकारियों से करेगी, अगर  विभाग ने कार्रवाई नही किया तो फिर पुलिस और एमसीडी के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया जाएगा।
Email: editorgulistan@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.