Breaking News

आक्रोश: देश के कोने – कोने से दलित समाज के लाखों लोगों ने दिल्ली में मोदी को घेरा, कहा कि मंदिर नहीं बना तो ईंट से ईंट बजा देंगें

पूर्वी दिल्ली। देश के कोने कोने से संत रविदास के समर्थक दलित समाज के लाखों लोग आज दिल्ली पहुँच रहे हैं। लोगों में संत रविदास मंदिर तोड़े जाने से केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ गुस्सा दिखाई दे रहा है। दिल्ली से आम आदमी पार्टी के एससीएसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप कुमार अपने हज़ारों समर्थकों के साथ रामलीला मैदान में चल रहे आंदोलन में शामिल हुए। देश भर से दलित समाज के नेता अपने अपने समर्थकों के साथ रामलीला मैदान पहुंचे हुए हैं।
दलित समाज के लोगों से खचा खच भरा रामलीला मैदान आज नीले रंग में रंगा हुआ दिखाई दे रहा है।

दिल्ली की सड़कों पर चारों तरफ जाम लगा हुआ है। जय भीम जय भारत के नारों से वातावरण गूँज रहा है। हलांकि आंदोलनकारी शांतिपूर्वक धरना स्थल पर पहुंच रहे हैं लेकिन संख्या अधिक होने के कारण घंटों से दिल्ली का यातायात बाधित है। हर व्यक्ति के चेहरा पर सरकार और डीडीए के खिलाफ गुस्सा देखा जा सकता है। लोग भाजपा की मोदी सरकार पर दलितों के अधिकारों का हनन, उत्पीड़न करने और संत रविदास मंदिर तोड़ने का आरोप लगा रहे थे।


देश भर से आये हुए राजनैतिक दलों और सामाजिक संगठनों के लोगों का कहना है कि मंदिर जहा पर था वहीं बनेगा, मंदिर को अन्यत्र कहीं और नहीं बनाया जायेगा। केंद्र सरकार डीडीए को कठपुतली की तरह से उपयोग कर रही है। दिल्ली में लाखों अवैध मंदिर डीडीए की ज़मीनों पर बने हुए, कालोनिया बसी हुयी है लेकिन उसको खाली करवाने के लिए डीडीए का कोई अधिकारी नहीं जाता है।


दलित समाज कमज़ोर है इस लिए डीडीए और केंद्र सरकार उसका शोषण कर रही है, लेकिन उनको यह नहीं पता है कि देश का दलित समाज अब जाग उठा है। मंदिर जहाँ था वहीं बनेगा नहीं तो सरकार को अगर हम बनाना जानते हैं तो उखाड़ कर फेकना भी जानते हैं। उन्होंने कहा कि आज अभी हमने सरकार को चेतावनी दिया है। अगर वक़्त रहते सरकार चेतना में आगयी और मंदिर बनवा दिया तो ठीक है नहीं तो पूरे देश में मोदी सरकार की तानाशाही और दलित विरोधी नीतियों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.