Skip to Content

Atraulia: डिलवरी के दौरान अस्पताल में महिला की मौत के बाद जागा स्वास्थ्य विभाग, कई फर्जी अस्पताल सीज

Atraulia: डिलवरी के दौरान अस्पताल में महिला की मौत के बाद जागा स्वास्थ्य विभाग, कई फर्जी अस्पताल सीज

Be First!
by August 6, 2019 Azamgarh, U.P.

आज़मगढ़/अतरौलिया। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से ज़िले भर झोला छाप डॉक्टर बिना रजिस्ट्रेशन के फर्जी अस्पताल खोल कर जनता को लूट रहे है।
रविवार थाना अतरौलिया के मड़ियापार मोड़ पर एक निजी चिकित्सालय में प्रसूता की मौत हो गयी। चौकाने वाली जानकारी यह है इस अस्पताल का न तो ज़िले में रजिस्ट्रेशन है और न ही यहां पर कोई डॉक्टर है। कम्पाउंडर और झोला छाप डॉक्टरों के भरोसे चल रहा था अस्पताल।

अतरौलिया का यह अकेला अस्पताल नहीं है बल्कि इस तरह के सैकड़ो अस्पताल और मेडिकल स्टोर ज़िले भर में जनता के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं लेकिन शासन और प्रशासन इससे बेखबर हैं।
रविवार को एक गर्भवती महिला की ऑपरेशन के दौरान हुई मौत के बाद प्रशासन जागा और अनानं फानन में थाना अतरौलिया के कई नर्सिंग होम्स पर छापा मारा गया जिसमें ज्यादातर फर्जी निकले।
स्वास्थ्य विभाग ने इनके लाइसेंस चेक किये। जिनके पास कागजात पूरे नहीं मिले उन सबको सीज कर दिया गया, लेकिन क्या सिर्फ अतरौलिया के कुछ एक अस्पतालों की कार्रवाई से समस्या का समाधान हो जाएगा। जबकि पूरे जिले में कुकुरमुत्तों की तरह से झोला छाप डॉक्टरों ने दुकानें खोल रखी हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी आजमगढ़ डॉक्टर ए के मिश्रा के निर्देश मे आज जिले की टीम अतरौलिया आ धमकी । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर शिवाजी सिंह के नेतृत्व मैं बाजार में बिना मान्यता के चल रहे नमन हॉस्पिटल पर छापा मारा गया। जिसका संचालक फरार हो गया। इसके पास लाइसेंस भी नहीं मिला। गौरव हॉस्पिटल पर छापा के दौरान इसका भी संचालक फरार हो गया। इसके पास वैध लाइसेंस नहीं मिला। जहां महिला की मौत हुई थी अर्पिता हॉस्पिटल में ताला बंद पाया गया।

चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर शिवाजी सिंह ने बताया कि जिले के टीम में सिद्धार्थ नाथ सिंह व संदीप सिंह , मुख्य चिकित्सा अधिकारी के निर्देश पर यह कार्रवाई किया है और आगे भी बगैर मान्यता के चल रहे अस्पतालों पर छापामारी जारी रहेगी।

आशाओं द्वारा तीन अस्पतालों पर प्रसूताओं को भेजने की बात पर उन्होंने कहा कि आज मीटिंग में समस्त आशा एवं एवं को बता दिया गया है। अगर ऐसा करता कोई पाया जाएगा या किसी प्रकार से जानकारी होगी उनकी सेवा समाप्त कर दी जाएगी। इस दौरान तमाम प्राइवेट क्लीनिक चलाने वाले लोगों में अफरा-तफरी बनी रहे।
रिपोर्ट: राजेश सिंह, ज़िला संवाददाता, editorguliatan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published.